Friday, November 26, 2010

वो मजनूँ-सा मिट जाए ऐसा नहीं है




वो मजनूँ-सा मिट जाए ऐसा नहीं है


कि मुझ में मगर अक्से – लैला नहीं हैं


गुज़र ही गई उम्र सुहबत में लेकिन


मेरे दिल में क्या है, वो समझा नहीं है


मेरे वासिते वो जहाँ छोड़ देगा


ये कहने को है, ऐसा होता नहीं है


है इक़रार दिल में और इन्कार लब पर


वो कहता है फिर भी कि झूठा नहीं है




उसे प्यारी लगती है सारी ही दुनिया


मैं सोचूँ वो क्यूँ सिर्फ़ मेरा नहीं है


मैं इक टक उसे ताकती जा रही हूँ


मगर उस ने मुड़ कर भी देखा नहीं है


वो ख़ुशियों में शामिल है मेरी पर उस को


मेरे ग़म से कुछ लेना - देना नहीं है।


फ़रेब उसने अपनों से खाये हैं इसने


उसे मुझ पे भी अब भरोसा नहीं है




हो उस पार “कमसिन” कि इस पार लग जा


मुहब्बत का दरिया तमाशा नहीं है








कृष्णा कुमारी

9 comments:

  1. ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

    संस्‍कृत की सेवा में हमारा साथ देने के लिये आप सादर आमंत्रित हैं,
    संस्‍कृतम्-भारतस्‍य जीवनम् पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
    सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो हमारे फालोअर बनकर संस्‍कृत के
    प्रसार में अपना योगदान दें ।

    यदि आप संस्‍कृत में लिख सकते हैं तो आपको इस ब्‍लाग पर लेखन के लिये आमन्त्रित किया जा रहा है ।

    हमें ईमेल से संपर्क करें pandey.aaanand@gmail.com पर अपना नाम व पूरा परिचय)

    धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  2. ब्लागजगत में आपका स्वागत है. शुभकामना है कि आपका ये प्रयास सफलता के नित नये कीर्तिमान स्थापित करे । धन्यवाद...

    आप मेरे ब्लाग पर भी पधारें व अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें, ऐसी कामना है । मेरे ब्लाग जो अभी आपके देखने में न आ पाये होंगे अतः उनका URL मैं नीचे दे रहा हूँ । जब भी आपको समय मिल सके आप यहाँ अवश्य विजीट करें-

    http://jindagikerang.blogspot.com/ जिन्दगी के रंग.
    http://swasthya-sukh.blogspot.com/ स्वास्थ्य-सुख.
    http://najariya.blogspot.com/ नजरिया.

    और एक निवेदन भी ...... अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आवे तो कृपया उसे अपना समर्थन भी अवश्य प्रदान करें. पुनः धन्यवाद सहित...

    ReplyDelete

  3. कृष्णा कुमारी जी

    नमस्कार !
    आपको अंतर्जाल पर पा'कर बहुत अच्छा लगा ।

    प्रस्तुत ग़ज़ल अच्छी लगी ।
    प्रेम का बंटवारा सच में सहन नहीं होता -

    उसे प्यारी लगती है सारी ही दुनिया
    मैं सोचूं वो क्यूं सिर्फ़ मेरा नहीं है

    … लेकिन चित्रों का चयन बिल्कुल अच्छा नहीं लगा ।


    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  4. रेखांकित करने के लिए बहुत कुछ है इस रचना में - एक में शब्द में अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करना चाहूँगा "लाजवाब"

    ReplyDelete
  5. ग़ज़ल अच्छी लगी| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  6. लेखन के मार्फ़त नव सृजन के लिये बढ़ाई और शुभकामनाएँ!
    -----------------------------------------
    जो ब्लॉगर अपने अपने ब्लॉग पर पाठकों की टिप्पणियां चाहते हैं, वे वर्ड वेरीफिकेशन हटा देते हैं!
    रास्ता सरल है :-
    सबसे पहले साइन इन करें, फिर सीधे (राईट) हाथ पर ऊपर कौने में डिजाइन पर क्लिक करें. फिर सेटिंग पर क्लिक करें. इसके बाद नीचे की लाइन में कमेंट्स पर क्लिक करें. अब नीचे जाकर देखें :
    Show word verification for comments? Yes NO
    अब इसमें नो पर क्लिक कर दें.
    वर्ड वेरीफिकेशन हट गया!
    ----------------------

    आलेख-"संगठित जनता की एकजुट ताकत
    के आगे झुकना सत्ता की मजबूरी!"
    का अंश.........."या तो हम अत्याचारियों के जुल्म और मनमानी को सहते रहें या समाज के सभी अच्छे, सच्चे, देशभक्त, ईमानदार और न्यायप्रिय-सरकारी कर्मचारी, अफसर तथा आम लोग एकजुट होकर एक-दूसरे की ढाल बन जायें।"
    पूरा पढ़ने के लिए :-
    http://baasvoice.blogspot.com/2010/11/blog-post_29.html

    ReplyDelete
  7. हेल्लो . साक्षात्कार.कॉम ने अपना नया पत्रकारिता नेटवर्क शुरू कर दिया है . आप प्रेसवार्ता.कॉम नेटवर्क से जुड़कर आप समाचार , लेख , कहानिया , कविता , फोटो , विडियो और अपने ब्लॉग को जन जन तक भेज सकते है . इसके लिए आपको प्रेसवार्ता.कॉम पर जाकर अपना एक प्रोफाइल बनाना होगा . प्रेसवार्ता.कॉम से जुड़ने का लिंक www.pressvarta.com है .
    सुशील गंगवार
    www.pressvarta.com
    www.99facebook.com

    ReplyDelete
  8. " भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" की तरफ से आप, आपके परिवार तथा इष्टमित्रो को होली की हार्दिक शुभकामना. यह मंच आपका स्वागत करता है, आप अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच

    ReplyDelete